Skip to main content

कंटीली तारों से घायल खबर : कश्मीर की सूचनाबंदी - 4


(एनडब्ल्यूएमआई-एफएससी रिपोर्ट)
स्थानीय मीडिया की उपेक्षा
पत्रकारों ने प्रशासन के दिल्ली से आने वाले 'राष्ट्रीय' पत्रकारों को तरजीह देने के बारे में कुछ कड़वाहट भरे लहजे में बात की अनुच्छेद 370 हटाने के बाद दिल्ली से 'लाये' पत्रकारों को लाल रंग वाले मूवमेंट पास दिए गए जो सरकारी अधिकारियों और सुरक्षा बलों को दिए जाते हैं, जबकि स्थानीय मीडियाकर्मियों को सफ़ेद रंग वाले नागरिक पास दिए गए
गैर स्थानीय पत्रकारों को ख़बरें फाइल करने के लिए इन्टरनेट पहुँच दी गयी एक स्थानीय पत्रकार ने कहा, "यह हमारे लिए सबसे बड़ी खबर थी पर मैं कोई खबर नहीं दे पाया"
अंतर्राष्ट्रीय संवाददाता और कश्मीर घाटी के बाहर के राष्ट्रीय मीडिया के पत्रकार भी पूरी तरह स्थानीय पत्रकारों निर्भर हैं वह स्थानीय पत्रकारों के कारण ही घूम-फिर और ख़बरें जुटाने का काम कर सकते हैं लेकिन बंदी ने क्या किया? कश्मीरी आवाज़ का पूरी तरह गला घोंट दिया
स्थानीय पत्रकारों ने अपनी हताशा और अलग-थलग किये जाने की भावना दर्शायी जब उन्होंने बताया कि मीडिया संस्थानों ने उन्हें दर-किनार कर दिल्ली या अन्य स्थानों के ब्यूरो से रिपोर्टर भेजे एक प्रमुख अखबार के पत्रकार ने कहा, "मैं खबर और तरीके से लिखता जाहिर था, उन्हें मेरी रिपोर्ट नहीं चाहिए थी इसलिए अब मैं कोई खबर नहीं देता"
स्थानीय पत्रकारों ने कहा कि यह 'एम्बेडेड' पत्रकार, अधिकांश राष्ट्रीय मीडिया से, सरकार को रास आने वाला परिदृश्य रच रहे थे इसीलिए यहाँ आम तौर पर मीडिया के प्रति द्वेष की भावना है अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने अविश्वसनीयता के आरोपों का मुकाबला करने के साधन हैं उदाहरण के लिए 9 अगस्त को सौरा में प्रदर्शन के बीबीसी वीडियो को जब भारत सरकार ने चुनौती दी, बीबीसी ने अनकट फुटेज मुहैया करा दी उसकी असलियत सिद्ध करने और फेक न्यूज़ के आरोपों को खारिज करने के लिए
कश्मीर में मीडिया बिरादरी के बीच एकजुटता में मुश्किलें किसी भी संघर्ष की स्थिति जैसी ही हैं, सरकार, खुफिया एजंसियां, सैन्य बल और सशस्त्र उग्रवादियों जैसे कई तत्व इन्हें अलग-अलग दिशाओं में खींचते हैं, पहुँच देकर या रोककर, गलत जानकारी फैलाकर, निगरानी और धमकी भरा माहौल बनाकर अविश्वास और संदेह का माहौल ऐसा होता है कि केवल सावधानी ही कार्यप्रणाली बन जाती है गिरफ्तार होने, फर्जी मामले दर्ज होने की सूरत में मीडिया संस्थानों से उम्मीद बहुत ज्यादा नहीं होती, इसलिए  पत्रकार समूहों में बोलने से कतराते हैं ऐसे परिदृश्य में कश्मीर वर्किंग जर्नलिस्ट्स, कश्मीर यंग जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन और नयी चुनी मुखर गवर्निंग बॉडी के साथ कश्मीर प्रेस क्लब आशा की किरण दर्शाते हैं   
पत्रकारों पर खुल कर काम न कर पाने का अपने लोगों से अन्याय करने समेत गहरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी पड़ रहा है एक स्थानीय महिला पत्रकार ने अपने साथियों की भावनाओं को प्रतिबिंबित करते हुए कहा, "हमारा काम खबर देना है और वह हम नहीं कर पा रहे और बेहद असहाय महसूस करते हैं कश्मीरियों को कोने में धकेल दिया गया है और हम कश्मीर की व्यथा को रिपोर्ट नहीं कर सकते"     
तीन दशकों से संघर्ष की ख़बरें दे रहे हैं
जम्मू और कश्मीर में मीडिया के लिए सैन्यीकरण, सशस्त्र उग्रवाद, संचारबंदी और बंद अनोखी बात नहीं है और उक्त चीज़ें यहाँ सामान्य जनजीवन से लेकर मीडिया के काम को प्रभावित करते रहे हैं
1990: वर्ष 1989 में सशस्त्र संघर्ष शुरू होने के बाद से 22 पत्रकार मारे गए हैं, इनमें से अधिकाँश को सीधे तौर पर निशाना बनाया गया 1990 में श्रीनगर में दूरदर्शन केंद्र के निदेशक लस्सा कौल से लेकर 2018 में राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी तक, कश्मीरी पत्रकारों ने अपना कार्य करने की कीमत जान देकर चुकाई है
2008: जम्मू एवं कश्मीर सरकार के ज़मीन श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड को देने के फैसले के खिलाफ व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए, सुरक्षा बलों की फायरिंग में कई लोग मारे गए और महीनों तक कई स्थानों पर 'बंद' रहे
2010: बारामुला के एक गाँव के तीन युवकों को सेना के "फर्जी मुठभेड़" में मारने के बाद मचे घमासान में प्रदर्शकारियों पर सुरक्षा बलों की फायरिंग में सौ से ज्यादा लोग मारे गए और कई घायल हो गए घाटी कई बंद, कर्फ्यू और आवाजाही पर कड़े प्रतिबन्ध की गवाह बनी
2016: उग्रवादी नेता बुरहान वाणी के सुरक्षा बलों के हाथों मारे जाने के बाद व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए और लगभग दो महीने तक कर्फ्यू लगा रहा, मोबाइल फ़ोन कनेक्टिविटी काट दी गयी लगभग सौ लोग मारे गए और हज़ारों लोग, भीड़ नियंत्रण उपायों जिनमें पैलेट शामिल थे, से घायल हुए
कानून: मीडिया कड़े प्रतिबंधों के तहत और सैन्यकर्मियों को असीमित ताकत देने वाले आर्म्ड फोर्सेज (स्पेशल पावर्स) एक्ट तथा राज्य की सुरक्षा अथवा क़ानून व्यवस्था बनाए रखने में बाधा डालने की आशंका से पत्रकारों समेत लोगों को बिना मुक़दमे के हिरासत में लेने के कश्मीर के पब्लिक सेफ्टी एक्ट 1978 के तहत गिरफ्तारी की तलवार के साए में काम कर रहा है वर्ष 2008 में बनी राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआईए) जैसी आतंकवाद विरोधी एजंसियों को पत्रकारों समेत नागरिकों को बुलाने, हिरासत में लेने और तहकीकात करने के असीमित अधिकार हैं
इन्टरनेट बैन का सामना
इन्टरनेट पर बैन ने पत्रकारों के कार्य को बाधित किया है पत्रकारों को इन्टरनेट की अनुपलब्धता की सूरत से निबटने के लिए अविश्वसनीय तरीकों का इस्तेमाल करने पर मजबूर किया है पर यह थकाने वाला और लगातार निगरानी के खतरे की आशंका पैदा करते हैं
  •    शुरूआती दिनों में, कुछ पत्रकारों ने पेन ड्राइव में ख़बरें भेजीं
  •   कुछ पत्रकारों ने उन स्थानों पर जाकर ख़बरें फाइल करना शुरू किया जहाँ इन्टरनेट हो
  •    कुछ ने महसूस किया कि वह कहीं और अपने साथियों या रिश्तेदारों से भी मेल खुलवा नहीं सकते क्योंकि उन्होंने अपने डिवाईस पर दो चरणों में पुष्टि की व्यवस्था की गयी है ओटीपी पूछे जाने पर उनके मोबाइल फ़ोन पर आता, जो मामला बिगाड़ देता था

(जारी) 
नोट : रिपोर्ट पत्रकारों लक्ष्मी मूर्ति और गीता शेषु ने लिखी है जो नेटवर्क ऑफ वीमेन इन मीडिया, इंडिया की सदस्य हैं और फ्री स्पीच कलेक्टिव की संपादक हैं। दोनों 30 अगस्त से 3 सितंबर तक कश्मीर में थीं और चार सितंबर यह रिपोर्ट जारी की गई। दोनों संस्थाएं नॉन फंडेड और वालंटियर ड्रिवन हैं। )

Comments

Popular posts from this blog

प्रेमचंद का साहित्य और सिनेमा

-गुलजार हुसैन
प्रेमचंद का साहित्य और सिनेमा के विषय पर सोचते हुए मुझे वर्तमान फिल्म इंडस्ट्री के साहित्यिक रुझान और इससे जुड़ी उथल-पुथल को समझने की जरूरत अधिक महसूस होती है। यह किसी से छुपा नहीं है कि पूंजीवादी ताकतों का बहुत प्रभाव हिंदी सहित अन्य भाषाओं की फिल्मों पर है।...और मेरा तो यह मानना है की प्रेमचंदकालीन सिनेमा के दौर की तुलना में यह दौर अधिक भयावह है, लेकिन इसके बावजूद साहित्यिक कृतियों पर आधारित अच्छी फिल्में अब भी बन रही हैं।  साहित्यिक कृतियों पर हिंदी भाषा में या फिर इससे इतर अन्य भारतीय भाषाओं में अच्छी फिल्में बन रही हैं, यह एक अलग विषय है लेकिन इतना तो तय है गंभीर साहित्यिक लेखन के लिए अब भी फिल्मी राहों में उतने ही कांटे बिछे हैं, जितने प्रेमचंद युग में थे।
हां, स्थितियां बदली हैं और इतनी तो बदल ही गई हैं कि नई पीढ़ी अब स्थितियों को बखूबी समझने का प्रयास कर सके। प्रेमचंद जो उन दिनों देख पा रहे थे वही 'सच' अब नई पीढ़ी खुली आंखों से देख पा रही है। तो मेरा मानना है कि साहित्यिक कृतियों या साहित्यकारों के योगदान की उपेक्षा हिंदी सिनेमा में अब अधिक हो रही है।
साथियो…

विश्वासों को बल देता है महेश राजपूत का व्यंग्य लेखन

प्रस्तावना

लेखन हर-हमेशा से ही आग से खेलना रहा है। आप अभिव्यक्ति के लिए जिस भी विधा का चुनाव करें- वस्तुतः खतरों को ही आमंत्रित करते रहते हैं। अगर आपकी कलम व्यवस्था को समर्पित है, तो आप चिकनी-चुपड़ी रोटी का आनंद लेते हुए भी खतरे को आमंत्रण दे चुके होते हैं, क्योंकि एक दौर के खत्म हो जाने के बाद ऐसा बखत जरूर आता है, चाहे आपके रहते में आए या बाद में, जब कभी आप समीक्षण की जद में आते हैं, आप खुद का नाम मिट्टी में मिला हुआ पाते हैं। दूसरा रास्ता है जनपक्ष का। व्यवस्था के खिलाफ कलमगीरी का। यह तरीका सृजन के शुरूआती हर्फ से ही आपको एक दहकते फर्नेस में धकेल देता है। ज्यादातर विधाओं में शब्दजाल इस कदर सुनहरे होते हैं कि पाठक उसकी कुंदनी चमक में उलझकर रह जाते हैं और सृजनहार सीधी दुश्मनी पाले बिगर साफ बचकर साफ निकल जाता है।

व्यंग्य में ऐसा नहीं चलता। यह नंगी हथेली पर अंगार रखने का पराक्रम है। आप को किसी को राखड़ करने के पहले स्वयं को भस्मीभूत करना होता है। एक समर्थ व्यंग्यकार दुश्मनों के बीच ही पलता है, विरोध में पनपता है। अभिमन्यु की तरह वह खुद को चक्रव्यूह के बीच सायास ले जाता है। वह परवाह नहीं करत…

बज़फीड पत्रकारों ने बगावत का बिगुल बजा दिया, पढ़िये क्यों?

कर्मचारी डिजीटल मीडिया में सबसे बड़ी श्रमिक यूनियन बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

-अलेक्सिया फर्नांडीज कैंपबेल
बज़फीड न्यूज़ के पत्रकारों का सब्र जवाब दे रहा है। पिछले चार महीनों से उन्होंने एक श्रमिक यूनियन गठन के पक्ष में वोट दिया था पर कंपनी ने अभी तक उन्हें आधिकारिक रूप से स्वीकृति नहीं दी है।
बज़फीड न्यूज़ यूनियन को मान्यता देने में कंपनी की देरी के विरोध में दर्जनों कर्मचारी सोमवार अपना काम छोड़ चल दिये।  न्यू यॉर्क, सैन फ्रैंसिस्को, वाशिंगटन डीसी और लॉस एंजेलिस में पत्रकारों ने कंपनी का ध्यान आकर्षित करने के लिए दो बजे काम करना छोड़ दिया।
वॉक्स से साझा के गई बज़फीड न्यूज़ यूनियन के एक बयान के अनुसार लोकप्रिय समाचार वेबसाईट, जिसके अमेरिका में 200 से ज़्यादा पत्रकार हैं, के प्रबंधक महीनों से यूनियन प्रतिनिधियों से लड़ रहे हैं कि कितने कर्मचारी यूनियन में शामिल हो सकते हैं। यूनियन जिसका प्रतिनिधित्व न्यूज़गिल्ड ऑफ न्यू यॉर्क कर रही है, का कहना है कि प्रबंधन उन कई कर्मचारियों को यूनियन से दूर रखना चाहते हैं जिनके बारे में कि उनका दावा है कि वह प्रबंधक हैं अथवा सुपरवाईजर हैं जबकि कोई कर्मचा…